https://www.xxzza1.com
Home Nation निर्भया केस: फांसी से 4 दिन पहले दोषियों के परिजनों ने मांगी...

निर्भया केस: फांसी से 4 दिन पहले दोषियों के परिजनों ने मांगी इच्छा मृत्यु, पीड़िता की मां बोली मैं भी पिछले सात साल से मर रही

डेस्क: निर्भया सामूहिक दुष्कर्म व हत्या के मामले में फांसी की सजा पाने वाले चारों दोषियों विनय शर्मा, अक्षय सिंह ठाकुर, पवन गुप्ता और मुकेश के परिजनों ने अब राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को पत्र लिखकर इच्छा मृत्यु की अनुमति मांगी है। इच्छा मृत्यु मांगने वालों में दोषियों के बुजुर्ग माता-पिता, भाई-बहन और उनके बच्चे शामिल हैं। ऐसे में दोषियों के परिजनों द्वारा इच्छामृत्यु की डिमांड के बाद पीडि़ता की मां आशा देवी ने सोमवार को राष्ट्रपति से अपील की मैं न्याय के लिए पिछले सात वर्षों से भटक रही हूं। मैं भी पिछले सात साल से मर रही हूं। इसलिए अब मुझे न्याय मिलना ही चाहिए।लोग आज मेरी बच्ची को निर्भया के नाम से जानते हैं। पिछले सात वर्षों में इस बारे में लोगों के ताने भी मुझे झेलने पड़े।

nirbhya maa

आशा देवी ने कहा मैं पूरे देश को बताना चाहता हूं कि अगर कोई ऐसा व्यक्ति है जो अपराध का शिकार हुआ है और उसके परिवार द्वारा न्याय की मांग अगर एक नाटक है तो मैं कहना चाहती हूं कि हां यह नाटक ही सही। मैं एक नाटक बना रही हूं। पूरे देश को हमारी लड़कियों को न्याय सुनिश्चित करने के लिए इस नाटक में शामिल होना चाहिए। हालांकि इस दौरान उन्होंने उम्मीद जताई कि दोषियों को अब 20 मार्च को निर्धारित समय मौत की सजा दी जाएगी। अब चौथा डेथ वारंट आखिरी होगा। अब दोषियों के पास लगभग सभी कानूनी विकल्प खत्म हो गए।

आशा देवी ने यह भी कहा कि 2017 में, सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली हाई कोर्ट और ट्रायल कोर्ट द्वारा चारों दोषियों को दी गई मृत्युदंड की सजा को बरकरार रखा। इसके बाद से मुझे सुप्रीम कोर्ट पर भरोसा है कि जो भी फैसला होगा, वह हमारे पक्ष में और देश के पक्ष में होगा। उन्होंने साथ में यह भी कहा कि यह केवल निर्भया के लिए न्याय के बारे में नहीं है – यह फैसला सभी लड़कियों के लिए न्याय और सुरक्षा के बारे में है। बता दे की निर्भया मामले में चारों दोषियों को 20 मार्च, 2020 को सुबह 5.30 बजे फांसी दी जानी है। दोषियों को फांसी की सजा देने के लिए जल्लाद पवन अगले 17 मार्च को तिहाड़ जेल पहुंच जाएगा।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

ताजा खबरें